Recent Researches in Social Sciences & Humanities

International Refereed & Blind Peer Reviewed Multidisciplinary Research Journal :: Quarterly
[ISSN 2348-3318 Print]

Download


Current Issue : Apr-May-Jun-2017

Sl.No. Title Author/s Abstract View/Download
1 INTERNET AND MOBILE PHONE ADDICTION DECREASES THE CAPACITY OF SHORT TERM MEMORY AMONG YOUTHS
Vikas S. Minchekar & Vatan P. Bhosale The main aim of the present research is to study the relationship between the Internet Addiction, Mobile Phone Addiction and Short Term Memory among College students. It was hypothesized that (i) The Internet Addiction and Mobile Phone Addiction will be positively correlated with each other; (ii) The Internet Addiction, Mobile Phone addiction, and the capacity of Short Term Memory will be negatively correlated with each other & (iii) There will be no significant difference between male and female students among Internet Addiction, Mobile Phone Addiction, and Short Term Memory. The Sample (n = 40) for this study consisted college going students in Sangli and Jaysingpur City. Data was collected through Internet Addiction Scale, Mobile Phone Addiction Scale, and Short Term Memory scale. Obtained data analyzed by Pearson Product Moment Correlation Coefficient (PMCC)and Student 't' test. The Result revealed, (i) The Internet Addiction and Mobile Phone Addiction positively correlated to each other, (ii) The Internet Addiction, Mobile Phone Addiction and Short Term Memory strongly and negatively correlated to each other and (iii) There were no significant difference existed between male and female students on Internet Addiction, Mobile Phone Addiction and Short Term Memory.
Key Words : Internet Addiction, Mobile Phone Addiction, Short Term Memory
2 COMPARISION OF THE ADOLESCENT GIRLS' EMPOWERMENT OF
RURAL AND URBAN AREA IN DEHRADUN DISTRICT
Neerja Dhankar & Alka Gaur Family is the most important and basic unit of society and a women is the most important part of family. Women is considered as the foundation of the human society. But position of women is contradictory in our country, on one side we considered her has Goddess and on the other side she is considered as a burden on the family. In this situation women empowerment is needed to improve their condition and status in the society.
Key words:- Adolescent, Girls, Empowerment, Development
3 THE ROLE OF MOBILE COMMUNICATION IN
AGRICULTURE SECTOR : ‘A CASE STUDY OF
DHARWAD DISTRICT OF KARNATAKA STATE’
Raju Kamble & S. M. Malagatti As most mobile communications are tailored for worldwide consumption, it is a significant challenge to develop applications that satisfy individuals with various cultural backgrounds. In the past decade, technology has undergone incredible advancements and become the key to keeping up with our fast-paced world. The mobile is the perfect example of technology. In many countries, agriculture accounts for the overwhelming majority of rural employment. Information and communication have always mattered in agriculture. Updated information allows the farmers to cope with and even benefit from these changes. Providing such knowledge can be challenging, however, because the highly localized nature of agriculture means that information must be tailored specifically to distinct conditions. The proliferation of adaptable and more affordable technologies and devices has also increased ICT's relevance to smallholder agriculture. Innovation has steadily reduced the purchase price of phones, laptops, scientific instruments, and specialized software. Agricultural innovation in developed countries has become more applicable to developing-country needs. Mobile phones are the success story of bridging the rural digital divide, bringing tangible economic benefits and acting as agents of social mobilization through improved communication. The capacity building amongst farmers it is essential to ensure the quality of information, its timeliness and trustworthiness. The article also presents a research agenda focusing on the production of mobile agriculture news. This paper seeks to explore the social dynamics of mobile communication in agriculture sector.
Keywords: Mobile Communication, Agriculture, Information Tech., Responsibility
4 ECOCRITICISM AND TAGORE : A STUDY
Saroj Sharma Ecocriticism is one of the newest theory of postmodern era. Nature and human always treated as inseparable. is literary writing of east and west. As a separate theory it started to cough the attention of the world in 1990. Ecocricism provide better understanding of the issues and danger on nature caused by humans. It sees texts and its relation with physical environment nature the consistent character is the writing of Tagore. As a humanist all through his life the had been vocal about thoughtless exploitation of Nature. He did something creative to create awareness about the environment by establishing the Shantiniketan. This paper discuss term ecocriticism and the ecological thought of Rabindranath Tagore.
Key words : Ecology, Ecocriticism , literature, Tagore, poem, short stories Shantiniketan.
5 MASS MEDIA - THE FOURTH PILLAR OF THE MODERN SOCIETY
Manmeet Kaur "Media" holds a special position because its raw material is really the public mind and it trades chiefly in "moral values". The institution whose raw material is the public mind is a great institution. The study of the human mind is the most interesting thing and even more interesting is to inform guide, teach and help it in coming to a decision. Media should give more space to cover wide ranging of articles regarding communal harmony. They should cover festivals celebrated in certain parts of the country where different communities together join and celebrate. Some of the media are giving awards for the people who are working in the area of communal harmony. This is a wonderful sign of increasing media role in promoting harmony among people.
Key words : Role of Media - Importance, Modern Society & Morality.
6 ROLE OF ‘BACHPAN BACHAO ANDOLAN’ FOR PROTECTION OF CHILD RIGHTS
Km. Ruby Madhyan Children are not only the future citizens but also the future of the nation. The concept of children's rights emerged in the nineteenth century, when social reformers began advocating protection for children in the workplace. Bachpan Bachao Andolan (BBA) is India's pioneering child rights organisation working towards the elimination of all forms of exploitation against children and for free and compulsory education of all children. It was founded in 1980 by Kailash Satyarthi. BBA has been successful in changing the fate of over 82,000 children rescued from exploitation, in achieving important anti child labour and trafficking laws, and in raising awareness among the public. BBA is playing an important role for protection of child rights.
7 पर्यावरण का पर्वतीय महिलाओं के जीवन पर प्रभाव - एक विश्लेषण जे0 पी0 पचौरी एवं किरन बाला जल, कृषि उत्पादन, वन्य पारिस्थितिकी किस प्रकार पर्वतीय महिलाओं के जीवन को प्रभावित करती हैं। पर्यावरण किस प्रकार महिलाओं से अन्तः सम्बन्धित है। अध्ययन के लिए उत्तराखण्ड राज्य के जनपद चमोली के विकास खण्ड जोशीमठ के 49 ग्राम पंचायतों में से 10 का चयन क्रमांक सूची विधि से किया गया है जिसमें प्रत्येक ग्राम पंचायत से 30-30 सूचनादाता का चयन दैव निदर्शन की लॉटरी प्रणाली से किया गया। अतः 300 महिलाओं को सूचनादाता के रूप में चुना गया। तथ्यों के आधार पर कहा जा सकता है कि पर्यावरणीय ह्रास का प्रभाव पर्वतीय महिलाओं की दैनिक दिनचर्या पर पड़ता हैै। पर्यावरण का पर्याय महिला है, यह कहना अतिश्योक्ति न होगा। यद्यपि वन अधिनियम ने जंगलों पर महिलाओं के अधिकारों को छीन लिया है इसके बावजूद भी वनाग्नि को बुझाते हुए वे अपने प्राणों की परवाह नहीं करती, जो वनों के प्रति उनके लगाव हो दर्शाता हैै। इस प्रकार के पारिस्थितिकी असन्तुलन के लिए महिलाएं संघर्षशील रहती हैं। क्योंकि पर्यावरण को बचाने का प्रश्न इनके स्वयं के अस्तित्व को बचाने जैसा ही है।
8 पिथौरागढ़ जनपद में ताम्र शिल्प का संक्षिप्त अध्ययन
गीता टम्टा पिथौरागढ़ में अनेक स्थानों पर ताम्र पत्रों में धार्मिक एवं भूमि दान पत्रों की उपलब्धता से यथा सम्भव पर्याप्त मात्रा में ताम्र शिल्प का कार्य किया जाता रहा है। इन ताम्र पत्रों की उपलब्धता से ज्ञात होता है कि यहाँ पर चन्दशासकों के समय से ही ताम्र शिल्प कार्य शिल्पी टम्टा लोगों द्वारा परम्परागत रूप से किया जाता है। प्रस्तुत अध्ययन क्षेत्र के अन्तर्गत 3000 के लगभग ताम्र शिल्पी टम्टा लोगों के परिवारों की जानकारी प्राप्त हुई। लेकिन इनमें से 45 परिवार जो वर्तमान समय में इस क्षेत्र में ताम्र शिल्पी अपने पुश्तैनी परम्परागत ताम्र शिल्प कार्य को सुचारू ढंग से कर रहे हैं। जिनका साक्षात्कार के माध्यम से ऐतिहासिक तथ्य संकलनों का अध्ययन किया गया है। आंकड़ों के विश्लेषण द्वारा ज्ञात होता है कि 100.00 प्रतिशत ताम्र व्यावसायी अपने साथ होने वाले भेद भाव को नकारते हैं। कहा जा सकता है कि ताम्र व्यावसायी की सामाजिक परिस्थिति अच्छी है।
कूट-षब्द: ताम्र शिल्पी, सामाजिक जीवन, व्यवसायिक स्थिति, जीविका।
9 ‘‘जैविक खेती’’ समाज के लिए आवश्यकता एवं महत्व
शेफाली शुक्ला जैविक खेती कृषि में अपनायी जाने वाली वह विधि है जिसके अन्तर्गत स्वास्थ्य तथा पर्यायवरण के लिए घातक रासायनिक खादों एवं कीटनाशकों के बजाय प्राकृतिक तत्त्वों से तैयार खादों एवं कीटनाशकों का प्रयोग खेती के लिए किया जाता है। जैविक खेती कोई नयी अवधरणा नही है, अपितु प्राचीन काल से ही इसका प्रयोग खेती में इसका प्रयोग होता रहा है, किन्तु पिछले कुछ दशक में बढ़ती जनसंख्या, भूमि की उर्वरता में कमी आने के कारण खेती में रासायनिक तत्त्वों के प्रयोग को बढ़ावा मिला। खेती में रासायनिक तत्त्वों के प्रयोग के कारण भूमि की उर्वरता कम होती जा रही है, पर्यायवरण प्रदूषित होता जा रहा है, तथा ऐसी खेती से उत्पन्न फसल के प्रयोग से लोगो के स्वास्थ्य को गम्भीर खतरा होता जा रहा है, अतः यह आवश्यक हो गया है कि रासायनिक तत्त्वों के बजाय खेती में प्राकृतिक तत्त्वों का प्रयोग किया जाए तथा जैविक खेती को बढ़ावा देने का मुख्य लक्ष्य लोगो के स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने के साथ ही कम लागत में अध्कि और गुणवत्तापूर्ण उत्पादन को प्रोत्साहित करना है। अतः जैविक खेती समाज के लिए आवश्यक होने के साथ ही महत्त्वपूर्ण भी है।
संकेत शब्द: चक्रिकरण, वाष्पीकरण, अवरोधकता, उर्वराशक्ति, जैविक उत्पाद।
10 ईटकी प्रखण्ड में फूलों की खेती का विकास: एक अध्ययन अनुप कुमार महतो एवं भूपाल कुमार महतो फूलों की खेती बागवानी का एक प्रमुख भाग है। वर्तमान समय में अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय, राज्य एवं स्थानीय या क्षेत्रीय स्तर पर एक प्रमुख व्यवसाय के रूप में उभर रहा है। अध्ययन क्षेत्र ईटकी प्रखण्ड में व्यवसायिक रूप में मुख्यतः गेंदा, गुलाब, जरबेरा, ग्लेडुलस फूलों की खेती की जाती है। इस प्रखण्ड में फूलों की खेती के विकास के लिए काफी अनुकूल दशाएँ एवं पर्याप्त संभावनाएँ है। जिनका विश्लेषण एवं वर्णन इस शोध पत्र में लिया गया है।
संकेत शब्द: व्यवसायिक फूलों की खेती, उत्पादन, क्षेत्र, उत्पादन नर्सरी
11 राँची महानगर का जनसंख्या वितरण एवं घनत्व
सुजाता कुमारी नगर मानव सभ्यता के केन्द्र होते है। नगर अपने क्षेत्र अथवा प्रदेश के आर्थिक-सांस्कृतिक विकास की प्रगति का सूचक होता है और जब वह नगर अपने राज्य अथवा देश की राजधानी हो तो उसका महत्व और अधिक बढ़ जाता है। राँची महानगर जो झारखण्ड की राजधानी है इसके साथ भी यही स्थिति है। नगरीय वृद्धि अथवा नगरीकरण एवं जनसंख्या का वितरण तथा घनत्व में घनिष्ठ संबंध है। राँची महानगर का जनसंख्या वितरण एवं घनत्व में कई दशकों से तेजी से बदलाव आया है। विशेषकर झारखण्ड अलग राज्य बनने के पश्चात राँची महानगर के जनसंख्या घनत्व में तेजी से वृद्धि हुआ है। प्रस्तुत शोध पत्र में विगत दशकों में राँची महानगर के जनसंख्या वितरण एवं घनत्व का विश्लेषण एवं वर्णन किया गया है।
मुख्य शब्द: जनसंख्या वितरण, घनत्व, नगरीय वृद्धि, महानगर।
12 वेदों में संगीत - एक विश्लेषण हरप्रीत कौर भारतीय संगीत विश्व का श्रेष्ठतम संगीत है। भारत से ही यह कला अन्य देशों में फैली है। ईसा के जन्म से कई शताब्दियों पूर्व यूनान के विद्वान लोग कहा करते थे कि द्योनिसोस ने, जिनका दूसरा नाम भगवान शिव है, अपने ही देश में अवतार लेकर मनुष्य जाति को नृत्य एंव संगीत कला सिखाई। प्राचीन काल में संगीत की स्थिति जानने का मुख्य स्त्रोत वैदिक काल अथवा चार वेद क्रमशः ऋग्वेद, यर्जुवेद, सामवेद, अर्थववेद हैं। इस काल में संगीत कितना उन्नत था तथा कितना प्रचलित था उसका साक्ष्य यह चार वेद है। चारों वेदों में संगीत का पुट पूर्ण रुप से नज़र आता हैं। ऋग्वेद काल से लेकर अथर्ववेद काल तक गायन शैली, नृत्य शैली तथा वाद्यों में समानता पाई जाती है। हमारे चारों वेदों मेें संगीत के विकास का चक्र नजर आता है। चारों वेदोें में वर्णित वीणा तथा दुन्दुभि का उल्लेख इस बात का साक्ष्य है कि वाद्यों में कोई विशेष परिवर्तन वौदिक काल में नहीं हुआ है।
13 कुमाऊँ से प्राप्त वैष्णव मूर्तियों का प्रतिमाशास्त्रीय अध्ययन चन्द्रकान्ता आर्या लक्ष्य की प्राप्ति हमेशा उपर्युक्त साधनों पर ही निर्भर करती है। प्रतिमा अथवा मूर्ति उसी लक्ष्य की उद्देश्यपूर्ति का साधन हैं। प्रतिमा के लिए वैदिक, पुराणों में अनेक शब्द प्रयुक्त हुए हैं। यथा अर्चा, शिल्प, प्रतिरूप, प्रतिकीर्ति, मूर्ति पूजा की प्राचीनता के स्पष्ट प्रमाण हमें सिन्धु घाटी सभ्यता के पुरावशेषों से मिलते हैं। उत्तराखण्ड के मूर्ति निर्माण में कार्तिकेयपुर के शासकों की अग्रणी भूमिका थी। मूर्तिकला के क्रमिक विकास का यह रूप इन्हीं प्रेरणाओं का परिणाम हैं। उत्तराखण्ड संग्रहालयों मंे संरक्षित मूर्तियों में संख्यात्मक दृष्टि से पाषाण मूर्तियाँ सर्वोपरि हैं। कुमाऊँ के पूर्वी क्षेत्रों में प्राप्त मध्यकालीन वैष्णव देवालयों व विष्णु की मूर्तियों से तथा चन्दों की स्थानान्तरित राजधानी अल्मोड़ा में स्थापित विष्णु से सम्बन्धित देवालयों की भी संख्या अधिक है। कुमांऊ में चतुर्भुज विष्णु, स्थानक विष्णु, शेषशायी विष्णु, लक्ष्मीनारायण, दशावतारांे स्तम्भ, विष्णु दशावतार पट्ट आदि प्रतिमाएं प्राप्त होती है।
14 वेदों में पर्यावरणीय संचेतना
धमेन्द्र यादव एवं डी0 पी0 सकलानी भारतीय सांस्कृतिक परम्परा का शुभारम्भ वनों से ही हुआ है। इसी कारण हमारी प्राचीन संस्कृति ‘आरण्यक संस्कृति‘ के नाम से जानी जाती है। पर्यावरण संरक्षण प्राचीन काल से हमारी संस्कृति का एक अटूट अंग रहा है। इसका मूल आधार प्रकृति पर हमारी निर्भरता एंव उसके प्रति हमारा सम्मान है। वेदों में स्थलीय पर्यावरण, जलीय पर्यावरण एवं वायवीय पर्यावरण के संरक्षण और उसके दूषित होने पर सुधार करने की विधी और प्रेरणायें दी गयी है। पृथ्वी में विद्यमान, पृथ्वी से उपजने वाली और पृथ्वी की विकारभूत सभी वस्तुओं का संरक्षण तथा संशोधन आवश्यक है। जल के महत्व का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि जल ही जीवन है। इस जल को बनाये रखने और नष्ट न होने देने तथा उसके शुद्धिकरण का सदा ध्यान रखना चाहिए। इसी प्रकार वायुमण्डल के शुद्धिकरण पर जोर दिया गया है। वेदों में यह उल्लेख किया गया है कि मनुष्य अपने प्रयासों से वायु, जल तथा औषधी-वनस्पति को इतना शुद्ध रखें कि वे माधुर्य की धारा बहाया करें और उनके संसर्ग में रहने वाले मनुष्यादी समस्त जीव-जन्तु सुख और शांति का अनुभव करें। भारतीय संस्कृति में पर्यावरण सुरक्षा एवं संतुलन को धार्मिक आधार प्रदान कर, उसे हमारे जीवन के अनिवार्य अंग के रूप में उल्लेख किया गया है। पर्यावरण से सम्बन्धित सभी तत्वों, वन एवं वनस्पतियों को देवत्व का अंश बताकर उनके प्रति न केवल आदरभाव प्रदर्शित किया, पर्यावरण सुरक्षा को सुनिश्चित आधार प्रदान किया गया है अपितु पर्यावरण को धार्मिक आस्था से जोड़कर उसके संरक्षण एवं संवर्धन का मार्ग भी प्रशस्त किया है। भारतीय संस्कृति में पर्यावरण को कभी भी जड़ पदार्थ मात्र नहीं माना गया। उन्हें हमेशा सजीव प्राकृतिक तत्व के रूप में सम्मान दिया गया। पर्यावरण से ही हमारी संस्कृति उपजी, पनपी और विकसित हुई, इसलिए आदिकाल से लेकर आधुनिक युग मे पर्यावरण के महत्व को समझते हुए पर्यावरण के प्रति अनुराग तथा उनकी रक्षा कर और उनके सहयोग से सुखी व संतुलित जीवन बिताने पर बल दिया गया है।
मुख्य षब्द: वेद, पर्यावरण, संचेतना, स्थलीय पर्यावरण, जलीय पर्यावरण, वायवीय पर्यावरण।
15 संस्कृत साहित्य में राष्ट्रीय चेतना की परम्परा कमलेष कुमार मिश्र चेतना में आत्म सम्मान एवं गौरव का विषय राष्ट्र होता है, राष्ट्रीय चेतना में राष्ट्र के लिए कार्य किया जाता है। राष्ट्रीय चेतना व्यक्तिगत स्वार्थ से रहित होती है, और सदैव प्रशंसनीय बनी रहती है। आन्तरिक कलह व द्वेष से पीड़ित देशों को कितनी ही बार राष्ट्रवाद ने एक झण्डे के नीचे लाकर खडा कर दिया हैै। राष्ट्रीय संकट के समय राष्ट्र प्रेम ने कितनी ही बार देश के सभी नागरिको को कंधे से कन्धा मिलाकर चलने को प्रेरित किया है, राष्ट्रवाद से प्रेरित होकर त्याग एवं वीरता के जो कार्य किये गये हैं, उसमें सभी देशांे के इतिहास के पन्ने भरे पडे हैं। राष्ट्रीय चेतना के कारण शासन व्यवस्था का पालन लोग स्वतः ही करते हैं। राष्ट्रीय चेतना देश प्रेम की भावना जगाकर नागरिकता को सजीव रूप प्रदान करती है। यह प्रत्येक व्यक्ति में आत्म सम्मान एवं गौरव की भावना भरता है। संकट काल में इसी भावना से राष्ट्र एक हो जाता है। राष्ट्रवाद ने साम्राज्यवाद को खत्म करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। प्राचीन संस्कृत साहित्य के अतिरिक्त अर्वाचीन संस्कृत साहित्य की एक लम्बी परम्परा है जिसमें राष्ट्रीय चेतना के साथ-साथ, अपने मनोमस्तिष्क में राज्य-कल्याण की भावना मिलती है।
16 शैलेश मटियानी का गद्य साहित्य: विवेचन एवं मूल्यांकन कु0 भावना अग्रवाल श्री शैलेश मटियानी जी एक ऐसे कथाकार हैं जिन्होंने कहानियों के साथ-साथ उपन्यास और आत्मकथा भी लिखी। उत्तर भारत के आंचलिक हिन्दी उपन्यास और कहानियों को सच्चे अर्थों में आंचलिक बनाने में यदि किसी साहित्यकार का प्रासंगिक योगदान है तो वह हैं शैलेश मटियानी।
मटियानी जी की कथा शैली बडी प्रभावोत्पादक है। इन्होंने अपनी कथाओं को उन सभी गद्य शैलियों में प्रस्तुत किया जो पाठक को अपनी ओर आकर्षित करने में सक्षम है। वर्णनात्मक, चित्रात्मक, भावात्मक शैली इनके कथा साहित्य की सर्वोत्कृष्ट शैली है। ये जब किसी स्थान व्यक्ति या स्थिति-परिस्थिति का वर्णन करते हैं तो उसकी गहराई तक पहुँच जाते हैं। सूक्ष्म दृश्य दर्शन इनकी कथा शैली की एक विशेषता है।
इस महान कथाकार ने लोक जीवन की झाँकी को अपने उपन्यासों के कई प्रसंगों में उभारा है। यही नहीं इन्होंने अपने एक उपन्यास को जागर की सूती शैली में उभारकर उसकी भाषा को उसी तरह तोड़ और मरोड़ दिया जैसे एक सूत्रधार जागरी की भाशा अपने डोर में हुड़के के साथ जागरों की भाषा को प्रस्तुत करता है।
मानवीय भावों को अपनी लेखनी से उभारने में दक्ष यह अद्वितीय साहित्यकार एक तरह से ग्राम्यजनों के मनोविज्ञान का आधिकारिक वैज्ञानिक है। मटियानी जी ने अपनी अनुभूति, कल्पना और अभिव्यक्ति का सदुपयोग जिस कथा साहित्य के सृजन में किया उसके विषय तथा पात्र उस वर्ग से आते हैं जो समाज के दबे कुचले लोग हैं। यही नहीं इन लोगों को दबाने और कुचलने की धूर्तता करने वाले तत्वों को भी अपनी लेखनी का विषय बनाया।
मटियानी जी एक उपन्यासकार के साथ-साथ एक कुशल कहानीकार भी रहें हैं। वे अपनी कहानियों में मूल संवेदनाओं को उकेरने में सफल हुये हैं। उन्होंने अपने भोगे हुये यथार्थ को ही अपनी तूलिका के माध्यम से कागज में स्थान दिया है। मटियानी जी की कहानियों में भी आंचलिकता का समग्र प्रभाव दिखता है। पर्वतीय अंचल के होने के कारण ग्रामीण जीवन की समस्त अभिव्यक्ति उनकी कहानियों में मिलती है। कहानी की नई संवेदना में आत्मा अन्वेषण का बड़ा योगदान है। वैसे तो सभी लेखन आत्म विश्लेषण होता है पर मेरा तात्पर्य यहाँ मुखर रचना विधान से है। रचनाकार अपना अध्येता जब स्वयं बनता है तो अपने अंतरा से चुने हुये मोती निकालता है।
17 नरेन्द्र कोहली के उपन्यासों में चित्रित राम-कथा
अन्जु शर्मा डॉ0 नरेन्द्र कोहली जी बहुआयामी प्रतीभा के धनी साहित्यकार हैं। आपने हिन्दी की विविध विधाओं पर कार्य किया है। आप अपनी तीन कृतियों के लिए विशेष रूप से प्रसिद्ध हुए है पहली रामकथा पर आधारित अभ्युदय, दूसरी महाभारत पर आधारित महासमर और तीसरी स्वामी विवेकानन्द जी के जीवन पर आधरित तोड़ो कारा तोड़ो। उनकी उपन्यासों की श्रृंखलाओं ने साहित्य जगत को समृद्ध बनाने में अपना अमूल्य योगदान दिया है। कहानी , व्यंग्य , उपन्यास , नाटक उनकी लगभग 84 से अधिक पुस्तके प्रकाशित हो चुकी है। राम-कथा का गद्य माध्यम से प्रस्तुतीकरण वास्तव में डॉ0 कोहली जी की एक अद्भुत खोज है जिससे उन्हें समाज में अकल्पनीय लोकप्रियता प्राप्त हुई है। आपकी रामकथा पर आधारित उपन्यास-श्रृंखला में पाठकों को अतीत की घटनाओं से वर्तमान सन्दर्भों में नवीनता की प्राप्ति होती है। जो वास्तव में आपकी असाधारण विद्वता की परिचायक है। प्रस्तुत उपन्यास खण्डों के माध्यम से आपने मानव मन की गहराईयों को छूआ है। यही कारण है कि पाठकों ने भी हृदय खोलकर इनका साहित्य जगत में स्वागत किया है। उन्होंने पौराणिक सन्दर्भों को यथावत नहीं रखा है अपितु अपनी कल्पनाओं का सम्बल ले उन्हें वर्तमान के परिपेक्ष्य में उपस्थित करने का सतत प्रयास किया है। राम-कथा पर आधारित होने पर भी इनकी कृति आज की समसामयिक समस्याओं के इर्द-गिर्द घूमती प्रतीत होती है जो वास्तव में आधुनिक चेतना से सम्बद्ध है न कि युगों पुरानी पौराणिक संचेतना से।
18 सामाजिक परिवर्तन में यम की भूमिका दयानन्द प्रसाद आज का मानव व समाज दुःखी संकट ग्रस्त, तनाव ग्रस्त एवं भयपूर्ण वातावरण में जी रहा है। आज चारांे तरफ असुरता, भ्रस्टाचार, हिंसा, चोरी, बलात्कार, कालाबाजारी फैली हुई है। सभी दुखी व परेशान हैं। ऐसे में एक आशा की किरण महर्षि पतंजलि हमें योग की दिखाते हैं, की हम योग मार्ग पर चलें और अष्टांग योग के यम नियम आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान, समाधी में से मात्र यदि यम का ही पालन करें, अर्थात् यम के पांच प्रकार अहिंसा, सत्य, अस्तेय, ब्रह्मचर्य व अपरिग्रह व्रत का पालन करें तो समाज से हिंसा, चोरी, बलात्कार, कालाबाजारी, घूसखोरी, भ्रष्टाचार आदि अनैतिकता दूर किये जा सकते हैं व समाज को स्वस्थ, समुन्नत सुखी व स्वर्गीय बनाया जा सकता है। यम के पालन से व्यक्ति में शारीरिक, मानसिक, और आध्यात्मिक शक्तियों का जागरण होता है, तभी व्यक्ति अपना, परिवार व समाज का उत्थान कर सकता है तथा समाज में एक क्रान्तिकारी परिवर्तन हो सकता है।

Old Issues : View/Download (Open Access)

Sl.No. Issue Year View/Download
1 Oct.-Nov.-Dec. 2014
2 Jan.-Feb.-Mar. 2015
3 Apr-May-Jun. 2015
4 July-Aug-Sep. 2015
5 Oct.-Nov.-Dec. 2015
6 Jan.-Feb.-Mar. 2016
7 Apr-May-Jun. 2016
8 July-Aug-Sep. 2016
9 Oct.-Nov.-Dec. 2016
10 Jan.-Feb.-Mar. 2017
11 Apr-May-Jun. 2017
12 July-Aug-Sep. 2017 25th July 2017

Indexing

  • Cosmos
  • GIF
  • IIJIF
  • Infobase Index
  • Cite Factor
  • ARI(Research Bib.)
  • DIIF
Dr. Ruby Charak Associate Professor, Deptt. of Psychology, University of Texas, Rio Grande Valley, USA
Dr. Ram Prasad Pal Associate Professor, Deptt. of Pub. Adm. and Development Management, Dilla University, Dilla, Ethiopia
Prof. Shamsur R. Khan Psychiatrist, Kuala Lumpur, Malaysia
Dr. Rita Sahai Director, Hindustani Ensemble, Deptt. of Ethnomusicology, UC Davis, USA
  View More...


Our Team
Guidelines
Submit Your Manuscript
Subscription Form
Agreement/Declaration Form
Sample Paper
Current Issue
Previous Issues

Join Our Email List

SERVICES

  • Book Publishing with ISBN Number.
  • Edit Books with ISBN Number
  • Souvenir / Proceedings Publishing
  • Seminar / Conference Books/Reports
  • Translation :: English to Hindi, Hindi to English
  • Text Books & Many More
Contact Us

WPP in Social Media

Social Media & Networking

  • Google +
  • Facebook
  • Linkedin
  • Twitter
  • Pinterest
  • YouTube

View details »

Contact Us:
Well Press Publications
787, Lane 9, East Shiv Puram
Paiyala Road, ROORKEE
PIN : 247 667
Distt.- Haridwar
Uttarakhand
INDIA
Phone: +91-9319056411, +91-9412999793
Website : www.recentjournals.in & www.wellpress.in
Email : ritesh.rke@gmail.com